आगोश में तू मेरी !

Pc: thelist

तेरे लबो के मिलन से,
मेरे लबो पे इक प्यास बाकी रह गयी ।
असर कुछ यूं हुआ तेरे लबो का ,
मेरे लबो पे अब भी ,
तेरे नर्म होंठों की मिठास बाकी रह गयी ।

तेरा वो कोमल स्पर्श,
संगमरमर सा तराशा बदन,
बाहों में तू मेरी,
ना रही कोई दूरी,
यूं नजदीकियों के सिलसिलों ‌मे,
तेरी सांसों की, मेरी सांसों में,
कुछ अनकहे अहसास बाकी रह गये।

तेरे हाथों का मेरे हाथों में,
अंगुलियों का यूं आलिंगन,
चलते रहे हम दूर तलक,
साथ हमारे ये आसमां ये फलक ।
इश्क का असर था कुछ ऐसा,
कि मेरे हाथों में तेरे,
हाथों की लकीरों के,
अब भी कुछ निशान बाकी रह गये ।

आगोश में तू‌ मेरी
यूं ही गुजरी रात पूरी,
काश ना होती सुबह इतनी जल्दी,
दिल के ना जाने कितने अरमान बाकी रह गये ।

© AnuRag

Camera !!!

Pc:Btitannica

पहले कैमरे की क्वालिटी अच्छी नहीं थी,
कोई फिल्टर भी नहीं थे ।
फिर भी तस्वीर में लोगों के चेहरे पर इक चमक होती थी।
इक रियलिस्टिक मुस्कान, इक सुकुन का भाव नजर आता था ।
आजकल दिन ब दिन कैमरे बेहतर होते जा रहे हैं।
पर लोगों के चेहरे बेरंग होते जा रहे हैं ।

सुकुन चैन की तो यहां बात ही नहीं है ,जनाब !!!
अब तो रियलिटी को भी कई फिल्टरों और एडिटिंग से गुजरना पड़ता है, महज एक तस्वीर का रुप लेने के लिए ।।

© AnuRag

English translation

First the quality of the camera was not good,
There were no filters either.
Even then, there was a glow on people’s faces in the picture.
A realistic smile and naturalness could be easily seen on their faces.
These days, cameras are getting better day by day.
But people’s faces are becoming colorless.

There is no talk of realistic smile and naturalness here, sir !!!
Now, even reality has to undergo many filters and editing, just to take the form of, a picture.

Heart or Mind !!!

Pc:123RF

बेशक, प्यार होने के लिए इक खूबसूरत दिल ही काफी है ।
पर उस प्यार को निभाने के लिए दिल और दिमाग (समझदारी) दोनों की जरूरत पड़ती है ।

Of course, a beautiful heart is enough to love.
But to fulfill that love requires both heart and mind (understanding)
.

©AnuRag

इक तू ही तो है !

कहता है ये जहां ,
कि प्यार बस इक बार होता है ।
जब भी‌ मिलता हूं मैं तुझसे,
मुझे तो हर बार होता है ।

कुछ नयापन, कुछ अनकहा ,
हर बार अलग अहसास होता है ।
ना हो सके बयां जो लफ्जों में,
आंखों में इश्क का वो जाम होता है।

तेरी जुल्फों के छांव तले ,
इस दिल को बड़ा आराम होता है ।
कभी तू गुस्से में भी हो,
उसमें भी इक प्यारा अन्दाज होता है ।

फिरता रहूं मैं कहीं भी, कभी भी,
हरदम तेरा ही ख्याल होता है।
ढूंढता है ये दिल तुझे जमाने की भीड़ में,
नादान है , इसे खबर नहीं,
इक तू ही तो है जो….
मेरी तन्हाईयों में भी मेरे साथ होता है ।

~AnuRag

इज़हार !

Pc: medium.com

था इश्क उनको भी ,
इज़हार हम ही करते रहे,
हमें पता भी न चला,
यूं खामोशी से ,वो प्यार करते रहे
।।

~AnuRag

A few lines!

pc: penterest

प्यार होने के लिए दो पल का साथ ही काफी है ।

वरना, उम्र भर साथ रह कर भी, लोग इक दूसरे में कमियां ही ढूंढते हैं ।

~AnuRag

2020!

जैसा भी था गुजर ही गया ।
ना भूलेगा ये साल उम्र भर,
कुछ ऐसे सबक दे गया ।
कड़वा था, मुश्किलों से भरा था,
पर देख सके ये दुनिया,
खुद में ही खुद को,
इक निश्छल हम सबको आइना दे गया ।

शिकायत है हम सबको,
होना भी चाहिए ।
पर इतना कुछ सिखाया हमे ,
दिल में इक आभार होना चाहिए ।।

सीख कर इस से ,
चलो नव वर्ष का आगाज करते हैं ।
कुछ आप आगे बढ़ो, कुछ हम आगे आये,
चलो फिर से इक नयी शुरुआत करते हैं ।

The year is not good or bad. Every year is just one year.
Our previous actions make it good or bad.
However this year was a difficult year for the whole world, which gave many lessons to all. It makes us feel that we are part of nature. We cannot live without it.
Therefore, we should try to balance with nature while developing mankind.
So let’s say goodbye to 2020 .. and welcome the new year 2021 …..
Wish you all a very Happy New Year 2021.😊

With love ❤️

~AnuRag

ZINDAGI !

pc: youngisthan.in

जिन्दगीं को अपने हिसाब से जीने की कोशिश करिए, जनाब !

जिन्दगीं के हिसाब से तो पूरी दुनिया जी रहीं हैं ।

~ AnuRag

A few lines !

ये सच है, जीने में वो मजा कहां,

गर कुछ ख्वाहिशे अधूरी ना हो ,

पर ना करना हद से ज्यादा मोहब्बत किसी से,

बहुत तकलीफ देती है कमबख्त,गर ये पूरी ना हो

Pc : Internet ~AnuRag

इश्क अधूरा ही सही !

देखते ही देखते हर जबानी हो गयी,

हमे खबर ना हुयी,ये दुनिया भी ,

तेरे मेरे इश्क की दीवानी हो गयी ।

अभी प्यार परवान चढ़ा नहीं,

प्यास दिल की बुझी भी नहीं ,

पर जगजाहिर अपनी कहानी हो गयी ।

ये गलियां ये सूनी सड़कें ,

बिन जुबां , बिना कुछ कहे ,

तेरे मेरे इश्क की निशानी हो गयी ।

मिलना बिछड़ना सब किस्मत का खेल है,

इन सब से परे, इश्क अधूरा ही सही,

अब इक दूजे के नाम ये जिंदगानी हो गयी।

PC: internet ~AnuRag

Create your website with WordPress.com
Get started
<span>%d</span> bloggers like this: