नारी ।

pc: facebook Nari Samman

हर रिश्तें को वो समझती है,
बाखूबी उन्हें निभाती है।
दर्द कितने भी हो उसको,
फिर भी वो मुस्कुराती है।

मां किसी की,और बहन किसी की,
किसी की पत्नी बनकर साथ निभाती है।
वो नारी है देवीस्वारुप ।
जो दूसरों की खातिर,
अपना जीवन भी वारी है।।

पर विडम्बना है इस समाज की,
है सम्मान नहीं उसके लाज की।
समझते चीज उसे भोग-विलास की,
कद्र नहीं उसके अहसास की ।

करते झूठी बातें सर्वाधिकार की,
फिकर नहीं उसके ज्जबात की ,
और बात करते हैं नारी उत्थान की ।
नियत साफ़ नहीं इंसान की,
फिर दोष देते उसके परिधान की ।

समाज में बराबर दर्जे की,
वो पूरी हकदार हैं।
ये कोई अहसान नहीं,
यह उसका अधिकार है।

जाने कब हम समझेंगे,
नारी इस समाज की आधार है।
ये समाज शायद भूल गया ,
जरुरत पड़ने पर,
वो दुर्गा चंडी की अवतार भी है ।।

2020© AnuRag

Join the Conversation

27 Comments

Leave a comment

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Create your website with WordPress.com
Get started
<span>%d</span> bloggers like this: